श्री मिलिंद अन्ना खरात ने 3 जनवरी, 2012 को एग्रीकल्चर इंश्योरेंस कंपनी ऑफ इंडिया (AIC) के कार्यवाहक अध्यक्ष व प्रबंध निदेशक के रूप में कार्यभार ग्रहण किया था।

श्री खरात ने शिवाजी विश्वविद्यालय, मुंबई  से अर्थशास्त्र में स्नातकोत्तर और कोल्हापुर विश्वविद्यालय  से  एलएलबी किया है। वे भारतीय बीमा संस्थान से फेलो भी है।  

श्री खरात ने भारतीय साधारण बीमा निगम के 1979 बैच से सीधी भर्ती अधिकारी के रूप में अपना कैरियर शुरू किया और बाद में डिवीजनल मैनेजर, सीनियर डिवीजनल मैनेजर, क्षेत्रीय प्रभारी आदि सहित विभिन्न पदों पर विभिन्न प्रोफाइल के साथ विभिन्न स्तरों पर न्यू इंडिया एश्योरेंस कंपनी लिमिटेड  में कार्य किया।

श्री खरात फिजी और जापान में दो विदेशी पोस्टिंग पर भी रहे। फिजी में 1995 से 2001 तक के कार्यकाल में मुख्य प्रबंधक के रूप में उनके उत्कृष्ट प्रदर्शन के लिए उन्हें पुरस्कृत किया गया। उन्होने फिजी पुनर्बीमा निगम के निदेशक और फिजी बीमा परिषद के अध्यक्ष जैसे महत्वपूर्ण पदों का पर काम किया और फिजी बीमा अधिनियम, 1998 के संशोधन करने में उनका अत्यंत महत्वपूर्ण योगदान रहा है।   फिजी सड़क सुरक्षा के लिए उत्तरदायी राष्ट्रीय सड़क सुरक्षा परिषद संस्था के कार्यकारी सदस्य के रूप में भी उन्होंने कार्य किया।
 
श्री खरात वर्ष 2004 से 2007 तक जापान में न्यू इंडिया एश्योरेंस कंपनी लिमिटेड के जापान कार्यालय के मुख्य कार्यकारी अधिकारी के रूप में रहे। वह जापान के विदेशी गैर जीवन बीमा एसोसिएशन की कार्यकारी समिति के सदस्य और भारत - जापान मैत्री वर्ष 2007 के समारोह के लिए वित्त समिति के सदस्य भी रहे।

वह मानव संसाधन, प्रशिक्षण, समुद्री कार्गो, समुद्री हल, मोटर और विधि विभाग के क्षेत्र का गहन अनुभव रखते हैं।

एग्रीकल्चर इंश्योरेंस कंपनी ऑफ इंडिया (AIC) के बाद, श्री मिलिंद अन्ना खरात ने 18 अक्टूबर, 2012 को यूनाइटेड इंडिया इंश्योरेंस कंपनी लिमिटेड (UII) के अध्यक्ष सह प्रबंध निदेशक के रूप में कार्यभार ग्रहण कर लिया है।