alamelu.photo.jpg
श्री राजीव चौधरी​

 

श्री राजीव चौधरी भारतीय प्रबंध संस्थान, अहमदाबाद (आईआईएमए) से वर्ष 1981-83 के बैच से व्यवसाय प्रबंधन में स्नातकोत्तर हुए | इन्होंने एलएलबी तथा एलएलएम की डिग्री दिल्ली विश्वविद्यालय तथा कुरुक्षेत्र विश्वविद्यालय से क्रमश: प्राप्त की |

श्री राजीव चौधरी ने वर्ष 1983 में राष्ट्रीय कृषि एवं ग्रामीण विकास बैंक, भारत का एक उच्च विकास वित्तीय संस्थान(नाबार्ड) में प्रबन्धक (सीधी भर्ती श्रेणी बी अधिकारी) के रूप में अपने व्यवसाय की शुरुआत की |

इन्होंने नाबार्ड में ग्रामीण विकास परियोजनाओं में बृहत् संख्या में कार्य किया | इन्होंने माइक्रोफाइनेंस क्षेत्र में विशेषज्ञता हासिल की हुई है साथ ही इन्होंने राजस्थान राज्य में एक लाख से अधिक महिला स्वयं सहायता समूहों को बढ़ावा देकर उल्लेखनीय योगदान दिया है |

इन्हें वर्ष 1994 से 1999 तक दिल्ली राज्य सहकारी बैंक के प्रबंध निदेशक के रूप में प्रतिनियुक्त किया गया था |

इन्हें 1996 से 1998 तक दिल्ली सरकार के मुख्यमंत्री का विशेष कार्य अधिकारी (ओएसडी) के रूप में अतिरिक्त जिम्मेदारी दी गई |

इनका फसल बीमा के क्षेत्र में कार्यारंभ 2006 में एआईसी के माध्यम से हुआ | एआईसी में इनके कार्यकाल के दौरान इन्होंने मूल्य निर्धारण, बीमालेखन, मानव संसाधन, विपणन, प्रचार और विधि जैसे कई विभागों का नेतृत्व किया है।

इन्होंने भारत सरकार की सर्वोत्कृष्ट योजनाओं में से एक, प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना (पीएमएफ़बीवाई) के निरूपण और कार्यान्वयन सहित विभिन्न फसल बीमा योजनाओं के निर्माण और विकास में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है।

श्री राजीव चौधरी स्वयं कृषक समुदाय से संबंध रखते हैं, और समाज सेवा में विश्वास रखते हुए कृषक समुदाय की सेवा में सदा तत्पर रहते हैं |

 

  
 
                                                                                            ​हमारे पूर्व अध्यक्ष - व - प्रबंध निदेशक ​